Breaking News
Home / top / श्रीराम को मिला ‘न्‍याय’, मंदिर वहीं बनेगा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया ऐतिहासिक फैसला

श्रीराम को मिला ‘न्‍याय’, मंदिर वहीं बनेगा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया ऐतिहासिक फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया। कोर्ट ने विवादित जगह को रामलला का बताया। साथ ही कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद निर्माण के लिए कहीं और 5 एकड़ जमीन दी जाए।

सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया। कोर्ट ने विवादित जगह को रामलला का बताया। साथ ही कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद निर्माण के लिए कहीं और 5 एकड़ जमीन दी जाए।

इस ऐतिहासिक फैसले के मद्देनजर अयोध्या के चप्पे-चप्पे की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। साथ ही पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू की गई है।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ आज साढ़े दस बजे फैसला सुनायेगी। संविधान पीठ ने 16 अक्टूबर को इस मामले की सुनवाई पूरी की थी।

संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर भी शामिल हैं।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने, अयोध्या में 2.77 एकड़ विवादित भूमि तीन पक्षकारों-सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान- के बीच बराबर-बराबर बांटने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर अपीलों पर छह अगस्त से रोजाना 40 दिन तक सुनवाई की थी। इस दौरान विभन्न पक्षों ने अपनी अपनी दलीलें पेश की थीं।

संविधान पीठ द्वारा किसी भी दिन फैसला सुनाये जाने की संभावना को देखते हुये केन्द्र ने देश भर में सुरक्षा बंदोबस्त कड़े कर दिये थे। अयोध्या में भी सुरक्षा बंदोबस्त चाक चौबंद किये गये हैं ताकि किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना नहीं हो सके।

फैसले से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और तमाम धार्मिक संगठनों ने फैसले का सम्मान करने और शांति बनाए रखने की अपील की है।

अयोध्या पर फैसले से जुड़ा हर अपडेट जानें….

  • 11:25 : अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ
  • 11:16 : ट्रस्ट बनाकर मंदिर निर्माण का आदेश
  • 11:14 : मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में कहीं और भी दी जा सकती है जमीन: CJI
  • 11:13 : सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन दी जाए: CJI
  • 11:10 : राम मंदिर निर्माण के नियम बनाने का आदेश
  • 11:10 : रामलला का दावा बरकरार, विवादित जमीन रामलला को:CJI
  • 11:09 : केंद्र सरकार तीन महीने में स्कीम बनाए: CJI
  • 11:09 : मुस्लिम पक्ष को मस्जिद के लिए दूसरी जगह जमीन देने का आदेश
  • 11:07 : विवादित हिस्से का बंटवारा नहीं होगा, दोनों पक्षों को संतुलन बनाना होगा: CJI
  • 11:06 : 18वीं सदी तक नमाज के कोई सबूत नहीं: CJI
  • 11:05 : ढांचा गिराना कानून व्यवस्था का उल्लंघन: CJI
  • 11:04 : मुस्लिम पक्ष जमीन पर एकाधिकार साबित नहीं कर पाया: CJI
  • 11:02 : 1949 तक लगातार नमाज पढ़ने का दावा किया था: CJI
  • 11:01 : 1856 से पहले भीतरी भाग में हिंदू पूजा करते थे: CJI
  • 11:00 : 1856-57 तक नमाज पढ़ने के सबूत नहीं: CJI
  • 10:56 : हिंदू गुंबद को राम का जन्मस्थान मानते हैं
  • 10:56 : हिंदू वहां परिक्रमा भी किया करते थे
  • 10:54 : जन्मस्थान पर सभी पक्ष एक, दलीलों में हिंदू पक्ष का दावा खारिज नहीं हुआ
  • 10:54 : चबूतरा, भंडार, सीतारसोई के दावे की पुष्टि
  • 10:52 : रामलला ने ऐतिहासिक ग्रंथों के विवरण रखे, राम के जन्म का किसी ने विरोध नहीं किया
  • 10:52 : ASI ने मंदिर पर साफ कुछ नहीं कहा, ASI नहीं बता पाया कि मंदिर तोड़कर मस्जिद बनी
  • 10:51 : जमीन के विवाद पर फैसला कानूनी आधार पर
  • 10:49 : हिंदू अयोध्या को राम का जन्मस्थान मानते हैं, आस्था और विश्वास पर विवाद नहीं
  • 10:49 : ढांचे में पुरान पत्थर, खंभे का प्रयोग
  • 10:47 : मस्जिद के नीचे विशाल रचना थी, खुदाई में जो मिला वह इस्लामिक ढांचा नहीं
  • 10:46 : पुरातात्विक सबूतों को खारिज नहीं कर सकते, उनका मूल्यांकन जरूरी: CJI
  • 10:45 : इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला पारदर्शिता से हुआ: सुप्रीम कोर्ट
  • 10:44 : बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी थी: CJI
  • 10:43 : ASI के खुदाई के सबूतों की अनदेखी नहीं कर सकते: CJI
  • 10:42 : 1949 में दो मूर्तियां रखी गईं: CJI
  • 10:41 : मस्जिद कब बनी इससे फर्क नहीं, मीर बाकी ने बाबर के वक्त मस्जिद बनाई: CJI
  • 10:41 : निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज।
  • 10:35 : फैसले में 30 मिनट लगेंगे: चीफ जस्टिस
  • 10:35 : चीफ जस्टिस रंजन गोगाई ने कहा- सर्वसम्मति से लिया जाएगा फैसला
  • 10:33 : शिया बोर्ड की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की।
  • 10:32 : अयोध्या मामले में फैसला पढना शुरु किया गया।
  • 10:28 : फैसले की कॉपी सुप्रीम कोर्ट पहुंची, जजों की बेंच पर रखी गई। कोर्ट रूम में भारी भीड़ मौजूद है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *