Breaking News
Home / top / Nirbhaya case: जानें, निर्भया गैंगरेप के दोषियों की फांसी की सजा पर क्या बोले CM केजरीवाल

Nirbhaya case: जानें, निर्भया गैंगरेप के दोषियों की फांसी की सजा पर क्या बोले CM केजरीवाल

निर्भया गैंगरेप के दोषियों की फांसी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं चाहता हूं कि सभी दोषियों को जल्द से जल्द फांसी पर लटकाया जाए। उन्होंने कहा है कि जो भी बची है उन सभी औपचारिकताओं को तत्काल पूरा किया जाना चाहिए। वहीं इस मामले के दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका का विरोध करते हुये पीड़िता की मां ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की है। दिसंबर, 2012 के इस सनसनीखेज अपराध के चार दोषियों को मौत की सजा सुनाई गई है जिनमें से तीन मुजिरमों की पुनर्विचार याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है।

सुप्रीम कोर्ट के 2017 के फैसले पर पुनर्विचार के लिये चौथे मुजरिम अक्षय कुमार की याचिका पर 17 दिसंबर को तीन न्यायाधीशों की पीठ सुनवाई करेगी। पीड़िता की मां के वकील ने प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष मामले का उल्लेख किया और कहा कि दोषी की पुनर्विचार याचिका का विरोध कर रहे हैं।

पीठ ने कहा कि पीड़िता की मां के वकील की बात भी 17 दिसंबर को उसी वक्त सुनी जायेगी जब दोषी की पुनर्विचार याचिका सुनवाई के लिये आयेगी। शीर्ष अदालत ने पिछले साल नौ जुलाई को इस मामले के तीन अन्य दोषियों 30 वर्षीय मुकेश, पवन गुप्ता और विनय शर्मा की पुनर्विचार याचिकायें खारिज कर दी थीं। दक्षिण दिल्ली में 16-17 दिसंबर, 2012 की रात छह व्यक्तियों ने चलती बस में 23 वर्षीय मेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार करने के बाद उसे बुरी तरह जख्मी हालत में सड़क किनारे फेंक दिया था। पीड़िता की बाद में 29 दिसंबर को सिंगापुर के माउन्ट एलिजाबेथ अस्पताल में मृत्यु हो गयी थी।

इस मामले में पुलिस ने छह आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इनमें से एक आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी जबकि एक अन्य आरोपी किशोर था। इस आरोपी को किशोर न्याय बोर्ड ने दोषी ठहराते हुये तीन साल की सजा सुनायी थी। आरोपी को तीन साल की सजा पूरी होने के बाद सुधार गृह से रिहा कर दिया गया था। अक्षय के अलावा तीन अन्य दोषियों के पास अभी भी शीर्ष अदालत में अपनी दोष सिद्धि और मृत्यु दंड के फैसले में सुधारात्मक याचिका दायर करने का विकल्प है।

About admin