Breaking News
Home / top / ‘सिर्फ धोती-कुर्ता और साड़ी’, काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन के लिए नया ड्रेस कोड लागू

‘सिर्फ धोती-कुर्ता और साड़ी’, काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन के लिए नया ड्रेस कोड लागू

वाराणसी। काशी विश्वनाथ मंदिर में ड्रेस कोड: धर्मार्थ कार्य मंत्री नीलकंठ तिवारी की अध्यक्षता में मंदिर प्रशासन और काशी विद्वत परिषद के सदस्यों की बैठक कमिश्नरी सभागार में ड्रेस कोड वाला फैसला लिया है।

यह नई व्यवस्था मकर संक्रांति के बाद लागू होगी और मंगला आरती से लेकर दोपहर की आरती तक प्रतिदिन या व्यवस्था लागू रहेगी। इस फैसले के बाद से ट्विटर पर योगी सरकार की आलोचना होने लगी है।

वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में स्पर्श दर्शन के लिए ड्रेस कोड लागू कर दिया गया है। नए ड्रेस कोड के मुताबिक स्पर्श दर्शन के लिए अब पुरुषों को धोती कुर्ता और महिलाओं को साड़ी पहनना अनिवार्य होगा। इसके अलावा जो कोई भी पैंट, शर्ट और जीन्स टॉप या अन्य किसी ड्र्रेस में मंदिर जाएंगे तो उन्हें स्पर्श दर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। यह नई व्यवस्था मकर संक्रांति के बाद लागू होगी और मंगला आरती से लेकर दोपहर की आरती तक प्रतिदिन या व्यवस्था लागू रहेगी।
काशी विश्वनाथ मंदिर में स्पर्श दर्शन के लिए ड्रेस कोड लागू होने के साथ-साथ स्पर्श दर्शन की अवधि भी बढ़ाई जा सकती है। धर्मार्थ कार्य मंत्री नीलकंठ तिवारी की अध्यक्षता में मंदिर प्रशासन और काशी विद्वत परिषद के सदस्यों की बैठक कमिश्नरी सभागार में ड्रेस कोड वाला फैसला लिया है।
इस फैसले के बाद से ट्विटर पर योगी सरकार की आलोचना होने लगी है। वैरीफाइड यूजर प्रीति शर्मा ने लिखा है, भयावह! काशी विश्वनाथ मंदिर में पारंपरिक पहनावे में ही दर्शन के लिए आना होगा। दुनिया भर के लाखों पर्यटकों को अब विशेष पोशाक लेकर आने होंगे। यह पागलपन क्या है?! ये कौन लोग हैं जो हिंदू और हमारे भगवान के बीच आ रहे हैं?

About admin