Breaking News
Home / top / शरजील इमाम ने क्राइम ब्रांच के सामने कबूला देशविरोधी भाषण देने की बात, PFI से संबंधों पर पूछताछ जारी

शरजील इमाम ने क्राइम ब्रांच के सामने कबूला देशविरोधी भाषण देने की बात, PFI से संबंधों पर पूछताछ जारी

नयी दिल्लीः देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार जेएनयू छात्र शरजील इमाम बुधवार शाम से दिल्ली पुलिस की हिरासत में हैं. दिल्ली क्राइम ब्रांच उससे पूछताछ कर रही है. दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, शरजील इमाम ने अपने भाषण के बारे में कहा है कि उसने ऐसा बोला था. शरजील ने ये भी कहा कि उसके भाषण वाले वीडियो से कोई छेड़छाड़ नहीं हुई है और ये भाषण उसने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में दी थी.

हालांकि, शरजील का कहना है कि वायरल हुआ वीडियो पूरा नहीं है. उसने एक घंटे तक भाषण दिया था. भाषण के दौरान जोश-जोश में उसने असम को देश से अलग करने का बयान दे दिया. पुलिस का कहना है कि अबतक के पूछताछ के मुताबिक वह घोर कट्टरपंथी है और उसका मानना है कि भारत को इस्लामिक राष्ट्र होना चाहिए.  उसे अपनी गिरफ्तारी का पछतावा नहीं है. इस्लामिक यूथ फेडरेशन और पॉपुलर फ्रंट आफ इंडिया के साथ उसके संपर्कों की पुलिस पड़ताल कर रही है.
शरजील से पूछताछ करने वाले क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल के अफसरों का मानना है कि शरजील ने सोच समझ कर रणनीति के तहत भाषण दिया था. पूछताछ में उसने बताया कि वह 25 जनवरी को बिहार के फुलवारी शरीफ में सीएए-एनआरसी के विरोध में शाहीन बाग की तरह चल रहे धरने में भाषण देने पहुंचा था, वो जब भाषण दे रहा था, उसी दौरान पता चला कि उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है.
ये पता चलते ही वो अंडरग्राउंड हो गया. क्राइम ब्रांच सूत्रों के मुताबिक, शरजील ने फुलवारी शरीफ में अपना मोबाइल बंद किया और सीधा जहानाबाद स्थित अपने गांव काको पहुंचा और 25 जनवरी से गिरफ्तार होने तक छिपा रहा. दिल्ली पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी कर रही थी. इसी बीच बीते मंगलवार को वह एक इनोवा  पर पकड़ा गया.
फिर उसे पहले पटना लाया गया  और वहां से दिल्ली. बुधवार को कोर्ट में पेश किया गया जहां से शरजील इमाम को पांच दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया है. फिलहाल उससे पूछताछ जारी है.
पुलिस ने कोर्ट में कहा था कि शरजील इमाम को रिमांड पर लेने की जरूरत इसलिए भी है, क्योंकि उससे लंबी पूछताछ की जानी है. इसके अलावा उसके विवादित और भड़काऊ भाषण वाले वीडियो की सत्यता की पुष्टि भी उससे करनी है. और यह भी पता लगाना है कि शरजील इमाम के पीछे और कौन-कौन लोग हैं.

About admin