Breaking News
Home / top / निर्भया केसः मां आशा देवी कोर्ट में रोते हुए जज से बोलीं, आपके आगे हाथ जोड़ती हूं.

निर्भया केसः मां आशा देवी कोर्ट में रोते हुए जज से बोलीं, आपके आगे हाथ जोड़ती हूं.

नई दिल्ली :  निर्भया केस मामले की सुनवाई के दौरान बुधवार को पटियाला हाउस कोर्ट में मौजूद निर्भया के माता पिता भावुक हो गए. निर्भया की मां ने कोर्ट में कहा कि मैं भी एक मां हूं. इंसाफ के लिए सात साल से इंतजार कर रही हूं. मैं आपके आगे हाथ जोड़ती हूं, मैं एक साल से कोशिश कर रही हूं कि दोषियों को फांसी पर चढ़ाने की तारीख तय की जाए।. जज ने उन्हें आश्वस्त किया कि आपको सुनने के लिए ही तो कोर्ट लगी है. हम आपको सुना रहे है. वही दूसरी ओर निर्भया के पिता ने जज से कहा कि अगर आज दोषियों को वकील दिया जाता है तो यह निर्भया के साथ अन्याय होगा. इस पर जज ने कहा कि कानून ने दोषियों को भी कुछ अधिकार दे रखे हैं. उन्हें वे अधिकार एक्सरसाइज ना करने देना भी अन्याय होगा.

बुधवार को दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी करने को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई की गई. कोर्ट ने कहा कि दोषियों को आखिरी सांस तक अपने सभी कानूनी विकल्प अपनाने का अधिकार है. कोर्ट ने दोषी पवन के पिता को भी वकील न होने का हवाला देकर मामला लटकाने पर फटकार लगाई. सरकारी वकील इरफान अहमद ने बताया कि हमने सभी दोषियों को नोटिस जारी किए थे, पर वकील एपी सिंह ने पवन की ओर से ये कहते हुए नोटिस स्वीकारने से इंकार कर दिया कि वो पवन की पैरवी अब नहीं कर रहे हैं. दोषी पवन के पिता ने लिखित में बताया है कि वो दूसरा प्राइवेट वकील करेंगे.

सरकारी वकील इरफान अहमद ने कहा कि पवन ने राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका खारिज के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. लेकिन दया याचिका खारिज होने के बाद दायर इस याचिका को क़ानूनी राहत के विकल्प नहीं माना जा सकता. इसकी पेंडिंग का हवाला देकर डेथ वारंट जारी करने से नहीं रोका जा सकता. एपी सिंह द्वारा अब पवन की पैरवी न करने पर कोर्ट ने पवन के पिता से कहा कि हम आपको वकील उपलब्ध कराएंगे, जो आपकी पैरवी करेंगे. लेकिन पवन के पिता ने क़ानूनी सहायता से लेने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि वो ख़ुद का वकील करेंगे. कोर्ट की सख्त शब्दों में हिदायत दी कि आप इस अर्जेंट मामले में वकील न रहने का हवाला देकर नहीं लटका सकते.

पवन के पिता द्वारा सरकारी वकील न लेने पर कोर्ट ने कहा कि हम इसे रिकॉर्ड पर लेंगे कि आपको क़ानूनी मदद दी गई लेकिन आपने इनकार कर दिया. सरकारी वकील और निर्भया के माता पिता के वकील ने निर्भया के दोषियों पर मामले को जानबूझकर लटकाने का आरोप लगाया. इस पर जज ने कहा कि इसके बावजूद दोषियों को आखरी सांस तक अपने पास मौजूद क़ानूनी राहत विकल्प आजमाने का अधिकार है. निर्भया की माता पिता की वकील सीमा कुशवाहा ने कहा कि आज डेथ वारंट जारी ही होना चाहिए. इस पर जज ने सवाल किया कि अगर हम आज डेथ वारंट जारी कर देते है, तो फिर पवन को लीगल ऐड देने का क्या औचित्य रह जायेगा. जज ने कहा कि हम अनुमान तो नहीं लगा सकते कि पवन का वकील कल क्या जिरह करेगा. लिहाजा हमें एक दिन का और इतंज़ार करना होगा.

कोर्ट ने कहा कि पवन को अपना वकील चुनने के लिए वक़्त मिलना चाहिए. पुराने वकील एपी सिंह से कहा कि रिकॉर्ड उपलब्ध कराए. पवन के पिता और जेल अधिकारियों को दिल्ली लीगल सर्विस ऑथोरिटी के वकीलों की लिस्ट दी जाएगी, ताकि वो क़ानूनी सहायता के लिए उनमें से वकील चुन सकें. जज ने अपने आदेश में कहा कि आसमान भी गिर जाए तो भी इंसाफ होना चाहिए. कोर्ट की ये राय है कि दोषी को आखिरी सांस तक क़ानूनी राहत का विकल्प आजमाने का अधिकार है. वकील के दोषी को सुने बिना डेथ वारंट की मांग पर आदेश देना सही नहीं होगा. अब इस मामले की सुनवाई गुरुवार को दोपहर 3 बजे की जाएगी.

About admin